गुरूग्राम

नामी ब्रांड के नकली तेल-पानी बनाने वाली कंपनियों का भंडाफोड़

342views

गुरुग्राम : – ब्राडेंड कंपनियों ने नाम का इस्तेमाल कर नकली सामान बनाने वाली तीन अलग-अलग कंपनियों का पुलिस ने भंडाफोड़ किया है। भारी मात्रा में कंपनियों में प्रयोग में लाया जा रहा नकली सामान भी बरामद किया गया है। पकड़ी गई एक कंपनी हिन्दुस्तान यूनिलीवर का प्रोडक्ट इंदुलेखा (तेल) बना रही थी तो दो कंपनियां पानी पैक्ड करने वाले नामचीन कंपनी बिस्लेरी के नाम का इस्तेमाल कर पानी की बोतलें पैक कर रही थीं।

पुलिस की छापेमारी के दौरान तीनों कंपनियों में काम कर रहे लोग मौके से फरार हो गए। पुलिस ने सेक्टर-5 और सेक्टर-65 थाने में मामला दर्ज किया है। बता दें कि इससे पहले भी गुरुग्राम पुलिस ने सेक्टर-10 स्थित नकली सामान बनाने वाली कंपनी को भी पकड़ा गया था। पुलिस उस मामले में भी जांच कर रही है।

पुलिस द्वारा छापामारी कर मामलों को दर्ज किया गया है। अभी तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है। मामले की जांच चल रही है। जांच में तथ्य सामने आने पर आरोपियों को गिरफ्तार किया जाएगा।” -सुभाष बोकन, पुलिस प्रवक्ता

इंदुलेखा का मिलता-जुलता बना रहे थे सामान

हिन्दुस्तान यूनिलिवर कंपनी के कॉपीराइट संबंधी काम देखने वाली 31 इंडिया प्राइवेट लिमिटेड कंपनी के प्रबंधक (ऑपरेशन) दीपक कुमार ने पुलिस को दी शिकायत में बताया कि उन्हें सूचना मिली कि मैसर्स श्रीराम सर्विस नाम से कोई कंपनी उनकी कंपनी के नामी प्रोडक्ट इंदुलेखा से मिलता जुलता प्रोडक्ट बाजार में बेच रही है। कंपनी अधिकारी की शिकायत पर मंगलवार को पुलिस टीम ने अशोक विहार फेज-3 के मकान नंबर बी-2 में छापा मारा। पुलिस छापामारी में सामने आया कि मकान मालिक जसबीर घर के अंदर फैक्टरी संचालित कर रहा था। पुलिस ने मौके से इंदुलेखा से मिलता जुलते उत्पाद की 21 खाली बोतलें, 44 भरी हुई बोतलें और 247 ढक्कन मिले। पुलिस टीम की छापामारी पर आसपास के क्षेत्र में भी हड़कंप मच गया। पुलिस ने माल जब्त कर कॉपीराइट एक्ट, धोखाधड़ी समेत अन्य धाराओं के तहत मामला दर्ज कर लिया। थाना प्रभारी निरीक्षक शमशुद्दीन ने बताया कि अभी कंपनी के ट्रेड लाइसेंस और हॉलमार्क के कागजात की जांच की जा रही है। जांच के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी।

बिस्लरी की बोतल में भर रहे थे पानी

बिस्लरी कंपनी का काम देखने वाली काउंटर फिटिंग फोर्स में कंपनी मे बतौर जांचकर्ता अंकित कुमार ने पुलिस को दी शिकायत में बताया कि गांव उल्लावास के प्लाट में एक पानी का प्लांट चलाया जा रहा है। प्लांट में बिस्लरी कंपनी की 20 लीटर के जार में स्थानीय आर-ओ का पानी डाल कर बेचा जा रहा था। सेक्टर-65 थाना पुलिस टीम के साथ मंगलवार को गांव उल्लावास में बने आरो के प्लांट पर पहुंचे। वहां पर बिस्लरी की बोतल में पानी भरकर एक गाड़ी में रखा हुआ था। बिस्लरी कंपनी के नकली ढक्कन और अन्य सामान मौके पर मिला। छापामारी के दौरान कुल 31 जार पानी से भरे हुए बरामद किए। प्लांट की तलाशी लेने पर 367 नकली ढक्कन, दो हीटर सीलिंग गन बरामद की गई। जांच में सामने आया कि प्लांट टिकूं निवासी उल्लावास द्वारा चलाया जा रहा है।

बहरामपुर गांव के प्लांट में भी छापेमारी

जांचकर्ता अंकित कुमार ने पुलिस को बताया कि गांव बहरामपुर में भी आर-ओ प्लांट चल रहा है। वहां पर भी बिस्लरी कंपनी के नाम का इस्तेमाल कर पानी बेचा जा रहा था। बहरामपुर के आर-ओ प्लांट में पहुंचे वहां पर भी एक गाड़ी में बिस्लरी कंपनी के नकली नकली ढक्कन और अन्य सामान पड़ा हुआ था। पुलिस ने मौके से पानी के बिस्लरी की बोतल में भरे स्थानीय पानी के 19 जार पड़े थे। प्लांट की तलाशी लेने पर दो कट्टों में 1020 बिस्लरी कंपनी के ढक्कन मिले। इसके अलावा एक हीटर गन बरामद हुई। जांच में सामने आया कि गांव बहरामपुर निवासी राजपाल प्लांट को चला रहा था।

Leave a Response