दिल्ली NCR समाचार

देशों के आक्रामक स्टिमुलस उपायों से सोने की कीमतों में सुधार

84views

देशों के आक्रामक स्टिमुलस उपायों से सोने की कीमतों में सुधार

लड़खड़ाती अर्थव्यवस्था ने कठिनाइयों को स्पष्ट रूप से जन्म दिया है और इसका नतीजा बेरोजगारी की उच्च दर के तौर पर सामने आया है। देश लॉकडाउन के उपायों को हटाने और सामान्य स्थिति में लौटने की कोशिश कर रहे हैं ऐसे में कोरोनावायरस की दूसरी और अधिक घातक लहर पर चिंता बन रही है।प्रथमेश माल्याचीफ एनालिस्टनॉनएग्री कमोडिटी एंड करेंसीएंजिल ब्रोकिंग

सोना

अमेरिकी फेडरल रिजर्व के पूर्वानुमान की तुलना में रिकवरी अवधि अधिक होने के आकलन के आधार पर नई प्रोत्साहन योजनाओं की घोषणा के बाद बुधवार को स्पॉट गोल्ड की कीमतें 0.77 प्रतिशत बढ़कर 1715.3 डॉलर प्रति औंस पर बंद हुईं।

अमेरिका में बड़ी संख्या में बेरोजगार श्रमिक बड़ी चिंता का विषय बन गए हैं और फेड ने इस गंभीर स्थिति से निपटने के लिए साधनों की एक कड़ी बनाने की घोषणा की है।

अगले कुछ महीनों के लिए ब्याज दरें कम रहने की उम्मीद है और यह पीली धातु की कीमतों को आगे सपोर्ट कर सकती है। कई देशों ने व्यापक आर्थिक पैकेजों की घोषणा की है और इसके अलावा महामारी की प्रत्याशित दूसरी लहर ने सोने की कीमत को बढ़ा दिया।

चांदी

बुधवार को स्पॉट सिल्वर की कीमतें 1.49 प्रतिशत बढ़कर 15.6 डॉलर प्रति औंस पर आ गईं, जबकि एमसीएक्स पर कीमतें 0.21 प्रतिशत घटकर 42965 रु प्रति किलो रहीं।

कच्चा तेल

बुधवार को डब्ल्यूटीआई क्रूड की कीमतें 1.90 प्रतिशत कम होकर 25.3 डॉलर प्रति बैरल पर बंद हुईं। यह घटनाक्रम अमेरिकी क्रूड इन्वेंट्री स्तरों के 4.14 मिलियन बैरल बढ़ने की उम्मीद के विपरीत 475,000 बैरल की गिरावट के बावजूद हुआ।

गिरती मांग और ओवरसप्लाई की समस्या से निपटने के लिए प्रमुख उत्पादकों की ओर से घोषित उत्पादन कटौती के कारण इस महीने की शुरुआत में कच्चे तेल की कीमतों को समर्थन मिला था। सऊदी अरब और पेट्रोलियम निर्यातक कंपनियों के संगठन ने आने वाले महीनों के लिए अपने उत्पादन को कम करने के उपायों को लागू किया है।

हालांकि, सर्दियों में कोरोनोवायरस की वापसी और अत्यधिक लाभदायक विमानन उद्योग पर लगे प्रतिबंधों ने क्रूड ऑयल के लिए लाभ सीमित कर दिया।

बेस मेटल्स

बुधवार को अधिकांश बेस मेटल की कीमतें चीन और दक्षिण कोरिया में महामारी की फिर उठी लहरों की वजह से फिर कम हो गईं। यह इस तथ्य की ओर इशारा करता है कि वायरस से संबंधित लॉकडाउन को जल्द हटाने से दुनिया की आबादी को काफी नुकसान होगा।

आशा की किरण पीपुल्स बैंक ऑफ चाइना (PBOC) और यूएस फेडरल रिजर्व द्वारा घोषित की जा रही इकोनॉमिक इंफ्यूजन और सपोर्ट प्लान से आई है, जिसने बेस मेटल की कीमतों को कुछ समर्थन दिया है।

कॉपर

 

बुधवार को लंदन मेटल एक्सचेंज (एलएमई) कॉपर की कीमतें ओवरसप्लाई की चिंता के बीच 0.62 प्रतिशत से कम रही। पेरू और दुनिया के अन्य स्थानों में खदानों को फिर से खोलने, तेजी से म्यूटेट होते और जानलेवा बनते जा रहे वायरस जैसी घटनाओं से बाजार सेंटीमेंट प्रभावित हुआ और लाल धातु की कीमतों में कमी आई।

टीके का विकास और बाद में वैश्विक आबादी का टीकाकरण भविष्य में बहुत दूर की कौड़ी लगता है। इस बीच, वैश्विक सरकारों को अपने लोगों को गरीबी और दुख से बाहर निकालने के लिए उपायों का समर्थन करना होगा और अर्थव्यवस्था को फिर से शुरू करने में मदद करना है ताकि दुनिया मंदी की स्थिति में न आए।

Leave a Response