दिल्ली NCR समाचार

आर्थिक गतिविधियां फिर शुरू होने और ओपेक+ की ओर से उत्पादन घटाने से क्रूड में लगभग 1% की तेजी

93views

आर्थिक गतिविधियां फिर शुरू होने और ओपेककी ओर से उत्पादन घटाने से क्रूड में लगभग 1% की तेजी

इन्वेंट्री स्तरों में बढ़ोतरी पर निकट भविष्य में कच्चे तेल की कीमतें निर्भर हो सकती है

चीन से बढ़ती मांग और दुनियाभर में आर्थिक गतिविधियों के फिर से शुरू करने की पृष्ठभूमि में मंगलवार को डब्ल्यूटीआई क्रूड 1.96% बढ़कर 38.9 डॉलर प्रति बैरल पर बंद हुआ। जुलाई 2020 तक उत्पादन में कटौती के ओपेक और रूस की ओर से पिछले सप्ताह लिए गए निर्णय ने तेल की कीमतों का समर्थन किया है। अप्रैल में ओपेक ने मई-जून में उत्पादन में 9.7 मिलियन बैरल प्रति दिन की कटौती करने पर सहमति जताई थी। श्री प्रथमेश माल्या, एवीपी रिसर्च, नॉन-एग्री कमोडिटी एंड करेंसी, एंजेल ब्रोकिंग लिमिटेड

क्रूड आउटलुकः

ओपेक कार्टेल ने कहा है कि वह जुलाई-2020 में अतिरिक्त 1.18 मिलियन बीपीडी उत्पादन कम नहीं करेगा जैसा जून में किया था। इसने क्रूड के लिए लाभ सीमित किया है और क्रूड इन्वेंट्री में बढ़ोतरी की संभावना के कारण दबाव बढ़ना जारी रहेगा। कोरोनावायरस की दूसरी लहर की आशंका भी अनिश्चितता बढ़ा रही है। आधिकारिक अमेरिकी क्रूड इन्वेंट्री डेटा आज प्रकाशित होगा और दिन की कीमतों को गाइड करेगा।

सोना:

स्पॉट गोल्ड की कीमतें 1.16% बढ़ीं और मंगलवार को 1,714 डॉलर प्रति औंस पर बंद हुईं। निवेशकों ने सोने पर कब्जा जमाया क्योंकि उन्हें उम्मीद है कि अमेरिकी फेडरल रिजर्व एक विपरीत रुख अपनाएगा। इन उम्मीदों ने प्रोत्साहन के उपायों की अपेक्षा के साथ-साथ अमेरिकी डॉलर में भी गिरावट लाई और इसे अन्य मुद्राओं के लिए सस्ता बना दिया और इसकी मांग बढ़ गई। 2020 में आक्रामक प्रोत्साहन पैकेजों ने ज्यादातर केंद्रीय बैंकों ने सोने की कीमतों को सपोर्ट किया है और अब, चूंकि रिकवरी में अपेक्षाकृत अधिक समय लग सकता है, इसलिए अधिक प्रोत्साहन पैकेजों का इंतजार है। यह वैश्विक निवेशकों के लिए सोने को अत्यधिक आकर्षक बना रहा है।

चांदी:

स्पॉट सिल्वर भी मंगलवार को 2.8% से अधिक चढ़कर 17.9 डॉलर प्रति औंस पर बंद हुआ। एमसीएक्स पर चांदी में 1.76% की तेजी आई और 48,185 रुपए प्रति किलोग्राम पर बंद हुई। बाजार उत्सुकता से प्रोत्साहन पैकेज पर अमेरिकी सेंट्रल बैंक की बैठक और दुनियाभर में सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था में चीजों को कैसे नियंत्रित किया है, इसका इंतजार कर रहा है

बेस मेटल्सः

मंगलवार को एलएमई पर बेस मेटल की कीमतें निकल और जिंक को छोड़कर पॉजीटिव रहीं। एमसीएक्स में कॉपर 0.91%, एल्युमीनियम 0.03%, और लेड 0.68% तक उछला। दूसरी ओर, निकेल और जिंक ने क्रमशः 1.12% और 0.58% नीचे कारोबार किया। मई 2020 में चीन की विनिर्माण गतिविधियों के धीमा होने के बाद औद्योगिक धातु की कीमतों पर दबाव था। चीन का मैन्यूफेक्चरिंग पीएमआई नंबर मई में गिरकर 50.6 हो गया जो इससे पहले के महीने में 50.8 था। हालांकि, सेवा और निर्माण क्षेत्र में उठाव दिखा, जिसने असमान रिकवरी का संकेत दिया और बेस मेटल कीमतों पर प्रभाव डाला।

Leave a Response