फरीदाबाद

उपायुक्त यशपाल ने कहा कि सरकार के आदेशानुसार जिला में शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में दुकानें खोली गई हैं। जिला प्रशासन की ओर से शहरी क्षेत्र में सर्वे किया जा रहा है

256views

उपायुक्त यशपाल ने कहा कि सरकार के आदेशानुसार जिला में शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में दुकानें खोली गई हैं। जिला प्रशासन की ओर से शहरी क्षेत्र में सर्वे किया जा रहा है कि दुकान खोलने से किसी क्षेत्र में सोशल डिस्टेंसिंग तो प्रभावित नहीं हो रही या फिर किसी क्षेत्र में बहुत अधिक संख्या में लोग तो बाहर नहीं आ रहे। दुकानें खोलने के बाद इस बात पर विशेष ध्यान दिया जाएगा कि लोग सोशल डिस्टेंसिंग के निमयों को जरूर अपनाएं। जनता को इसके लिए स्वयं भी जागरूक रहना चाहिए तथा केवल जरूरी कार्य या सामान लेने के लिए ही बाहर आएं, अन्यथा अपने घरों में रहें।

उपायुक्त बुधवार को वीडियो कॉन्फ्रेंस के द्वारा ऑनलाइन माध्यम से पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने बताया कि औद्योगिक क्षेत्र भी फरीदाबाद में शुरू हो गए हैं तथा कई क्षेत्रों में जरूरी सामान की दुकानें भी खोली जा रही हैं। उन्होंने कहा कि गत महीने 9 व 10 अप्रैल को बड़े स्तर पर पूरे जिला में घर-घर सर्वे किया गया तथा आईएलआई के मरीज की पहचान की गई। उनकी बाद में चिकित्सा जांच की गई तथा जिन व्यक्तियों में लक्षण अधिक थे, उनकी कोविड-19 जांच भी की गई। इसके अलावा कैमिस्ट की दुकानों, निजी व सरकारी अस्पताल की ओपीडी, आरडब्ल्यूए तथा पंच-सरपंच से भी संदिग्ध मरीजों के संबंध में रिपोर्ट एकत्रित की जाती है तथा उनका मेडिकल चेकअप किया जाता है। इसके बाद अगर डाक्टर्स को लगता है कि कोविड-19 टेस्ट होना चाहिए तो फिर उनका टेस्ट करवाया जाता है। इसके लिए स्वास्थ्य विभाग की टीमें पूरी सक्रियता से कार्य कर रही हैं। उन्होंने बताया कि जिला में अब तक 78 केस सामने आएं, जिनमें से ठीक होने के बाद 45 डिस्चार्ज हो गए तथा 31 लोगों का इलाज किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि पॉजिटिव केस में सभी संपर्क लोगों की पहचान कर उन्हें आइसोलेट किया जाता है ताकि बीमारी का फैलाव अधिक न हो। कई मामले ऐसे भी आए हैं, जिनमें किसी प्रकार के भी लक्षण नहीं दिखाई दे रहे थे तथा उनकी पॉजिटिव रिपोर्ट आई है। ऐसे में लोगों को और अधिक सतर्क रहना चाहिए तथा सोशल डिस्टेंसिंग तथा मास्क का हर हालत में उपयोग करना चाहिए। उन्होंने प्रवासी लोगों को उनके प्रदेश में भेजने संबंधी सवाल के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि इसके लिए उचित व्यवस्था की जा रही है। एसडीएम बड़खल पंकज सेतिया को नोडल अधिकारी बनाया गया है तथा ई-दिशा पोर्टल पर लिंक https://edisha.gov.in/eForms/MigrantService को मजदूरों के पंजीकरण के लिए खोला गया है। जिस पर वे पंजीकरण करेंगे, उन्हें उनके प्रदेश भेजने की व्यवस्था कर दी जाएगी।

Leave a Response