फरीदाबादहरियाणाहेल्थ

मास्क के ऊपर फेस शील्ड्स, हमारे शरीर में कोरोना वायरस के प्रवेश को रोकने के लिए अधिक प्रभावी : डॉ प्रवीण तोगड़िया

93views

मास्क के ऊपर फेस शील्ड्स, हमारे शरीर में कोरोना वायरस के प्रवेश को रोकने के लिए अधिक प्रभावी : डॉ प्रवीण तोगड़िया

प्रसिद्ध कैंसर सर्जन और हेल्थ लाइन के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. प्रवीण तोगड़िया, एमएस (सर्जिकल ऑन्कोलॉजिस्ट-कैंसर सर्जन) ने क्लीनिकल उपचारो के तहत मास्क और फेस शील्ड के उपयोग पर पूरी तरह से सटीक विचार रखते हुए कहा है की हैं अगर कोई पॉजिटिव कोरोना मरीज आसपास है (कम से कम 1 मीटर की दूरी पर) तो कोई भी व्यक्ति हवा के माध्यम से कोरोना संक्रमित हो सकता है। हवा के माध्यम से, कोरोनावायरस मुंह या नाक के माध्यम से गले में प्रवेश कर सकता है। यदि किसी व्यक्ति ने अन्य लोगों से 1 मीटर से अधिक दूरी और मास्क प्लस फेस शील्ड के साथ खुद को सुरक्षित किया है, तो उसे हवा के माध्यम से कोरोना संक्रमित होने से सुरक्षित किया जा सकता है।। डॉ. प्रवीण तोगड़िया के अनुसार शरीर में कोरोना वायरस के प्रवेश करने के रास्ते प्रमुख तौर आंखें, नाक, मुंह और कुछ हद तक कान हैं।इन माध्यमों ो छोड़कर, कोरोना वायरस हमारे शरीर में प्रवेश नहीं कर सकता है।आंखों, नाक या मुंह के माध्यम से हमारे शरीर में प्रवेश करने के बाद कोरोनोवायरस गले में पकड़ बनाता है और अंततः हमारे फेफड़ों तक पहुंच जाता है।

डॉ. प्रवीण तोगड़िया ने बताया की कोरोनावायरस से संक्रमित होने का दूसरा मार्ग है, किसी सतह को स्पर्श करना। अगर कोई व्यक्ति किसी भी सतह को छूता है जैसे टेबल, कुर्सी, मोबाइल या कोई भी सतह जो कोरोनावायरस से संक्रमित है, तो कोरोनावायरस उंगली के सिरो से चिपक जाता है और अगर वह व्यक्ति उन्हीं अंगुलियों से अपने चेहरे को छूता है तो कोरोनोवायरस उसके चेहरे तक पहुंच जाता है और चेहरे के माध्यम से यह आंखों, मुंह और नाक, गले और फिर फेफड़ों के माध्यम से शरीर में प्रवेश कर सकता है।और यदि उचित फेस शील्ड का उपयोग किया जाता है, तो एक व्यक्ति आदत से मजबूर होने के बावजूद भी अपना चेहरा नहीं छू पाएगा। इसलिए, उसे फिंगर टिप्स रूट के जरिए कोरोनावायरस से बचाया जा सकता है।

कोरोना वायरस आक्रामक रूप से दुनिया भर में फैल रहा है। कोरोना वायरस संक्रमण से बचने के लिए लोग मास्क, पीपीई, किट आदि का उपयोग कर रहे हैं। अधिकांश सरकारों ने मास्क पहनना अनिवार्य कर दिया है। लेकिन एक चर्चा यह भी है कि फेस शील्ड सुरक्षित उपयोग के मामले में मास्क के साथ-साथ अधिक प्रभावी है और कोरोना संक्रमण को रोकने में मदद कर सकता है। पश्चिमी देशों में मास्क उपयोग को लेकर स्वास्थ्य विशेषज्ञों की राय कुछ अलग है।डॉ.परेंसविच, यूनिवर्सिटी ऑपफ आयोवा में इंफैक्शन डिजीज डॉक्टर ने अपने एक इंटरव्यू में नई यॉर्क टाइम्स को बताय है की कि “प्लास्टिक फेस शील्ड के उपयोग से संक्रमण के प्रसार को कम करने में मदद मिल सकती है।“ यह केवल एक विचार नहीं है। सिंगापुर में छात्रों और शिक्षकों को अगले महीने स्कूलों के फिर से खुलने पर मास्क फेस शील्ड दी जाएगी। फिलाडेल्फिया में स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने सिफारिश की कि स्कूलों में आने वाले सभी शिक्षकों और छात्रों को स्कूलों के फिर से खुलते ही फेस शील्ड पहनना चाहिए।

बोस्टन स्थित वुमेंस हॉस्पिटल की डर्मोटोलोजिस्ट डॉ. शैरी ने कहा कि “कोरोनोवायरस की बूंदें हवा में तैरती हैं, इसलिए हमारी आंखों के साथ-साथ पूरे चेहरे की रक्षा करना बहुत महत्वपूर्ण है। फेस शील्ड को स्टरलाइज करने के साथ ही अच्छी तरह से साफ भी किया जा सकता है। इसका उपयोग तब तक किया जा सकता है, जब तक ये टूट नहीं जाती है या इसमें दरार नहीं पड़ जाती है। फेस शील्ड को अल्कोहल-आधारित सैनिटाइज़र से साफ करके या इसे संक्रमण मुक्त बनाने के लिए साबुन से धो कर भी साफ किया जा सकता है।“ डॉ.पेरेंसविच की राय है कि फेस शील्ड आंखों सहित पूरे चेहरे की रक्षा करती है। यह चेहरे को बार-बार छूने से बचाता है। चश्मा, टोपी या पगड़ी के साथ भी इसको पहनना आसान है। यह सिर के कुछ हिस्सों को घेरता है जबकि मास्क केवल नाक और मुंह को ढंक सकता है। मास्क में प्रयुक्त कपड़ा या सामग्री से चेहरे पर बार-बार खुजली होती है। कई लोग गलत तरीके से मास्क पहनते हैं। लोग बार-बार मास्क ठीक करते रहते हैं। वे बात करते समय मास्क को हटा देते हैं, जिससे संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है।

डॉ. प्रवीण तोगड़िया के अनुसार कि इसमें कोई संदेह नहीं है कि संक्रमण मास्क के साथ नहीं फैलता है, लेकिन अगर मास्क को सही तरह से उपयोग में नहीं लाया जाता है तो जो भी फेस शील्ड को पहनता है तो उसे संक्रमण से अधिक सुरक्षा प्राप्त होती है। फिर भी लोग इसे गंभीरता से नहीं लेते हैं। डिस्पोजेबल मास्क कई दिनों तक पहने रहते हैं। इसके अलावा, लोगों को अभी भी इस बारे में जागरूकता की कमी है कि मास्क कैसे पहनना चाहिए। दूसरे, विशेष रूप से छोटे बच्चों या अस्थमा के मरीज़ हर समय मास्क नहीं पहन सकते हैं। संक्रमण से बचने के लिए फेस शील्ड एक बेहतर विकल्प है।

दूसरी ओर, जबकि कपड़े का मास्क संक्रमण को फैलने से रोकता है, लेकिन ये मास्क पहनने वाले को आंखों के माध्यम से संक्रमण के प्रसार से बचाता नहीं है। कफ सिमुलेशन पर किए गए शोध के अनुसार, यदि आप एक मास्क पहनते हैं और उस से ऊपर एक फेस शील्ड है तो अगर कोई 18 इंच दूर भी खांसी करता है, तो वायरस से प्रभावित होने का जोखिम 96 प्रतिशत तक कम हो जाता है।

डॉ.प्रवीण तोगड़िया प्रसिद्ध कैंसर सर्जन और हेल्थ लाइन के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं। 10,000 से अधिक विशेषज्ञ डॉक्टर जरूरतमंद और गरीब रोगियों की सेवा करने के लिए इंडिया हेल्थ लाइन के सदस्य हैं और स्पेशलिस्ट डॉक्टर प्रति दिन एक रोगी फ्री देखते हैं।

Leave a Response