फरीदाबादहरियाणा

हरियाणा के शिक्षा मंत्री कंवरपाल ने कहा कि गुणवत्तापरक शिक्षा के बल पर ही देश-प्रदेश की संस्कृति को संरक्षित रखा जा सकता है, इसलिए प्रदेश सरकार का प्रयास है कि स्कूलों में बच्चों को गुणवतापरक शिक्षा दी जाए।

277views

फरीदाबाद, 14 अगस्त। हरियाणा के शिक्षा मंत्री कंवरपाल ने कहा कि गुणवत्तापरक शिक्षा के बल पर ही देश-प्रदेश की संस्कृति को संरक्षित रखा जा सकता है, इसलिए प्रदेश सरकार का प्रयास है कि स्कूलों में बच्चों को गुणवतापरक शिक्षा दी जाए।

शिक्षा मंत्री ने यह विचार शुक्रवार को करीब नौ करोड़ रूपए की लागत से विभिन्न स्कूलों में बनने वाले नए भवनों के निर्माण कार्य की शुरूआत करने के दौरान व्यक्त किए। इस अवसर पर उनके साथ सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्य मंत्री कृष्णपाल गुर्जर भी उपस्थित थे।

उन्होंने कहा कि समाज के नवनिर्माण मे शिक्षा का अपना अलग महत्व होता है। प्रदेश सरकार ने गुणवत्तापरक शिक्षा को प्रभावी रूप देने के लिये अनेक शिक्षा योजनाएं शुरू की है, जिसके परिणामस्वरूप आज सरकारी स्कूलों में पहले से ज्यादा दाखिले हुए हैं। मॉडर्न संस्कृति स्कूल, 3 वर्ष तक के बच्चो के लिये प्ले स्कूल, स्कुलों मे पौष्टिक भोजन का वितरण जैसी योजनाओ के शामिल होने से भी निश्चित तौर पर जनाकांक्षाओं के अनुरूप सारगर्भित परिणाम सामने आयेंगे। नई शिक्षा प्रणाली की आमजन के बीच हो रही प्रशंसा भी इसी कड़ी का हिस्सा है। शिक्षा मंत्री ने आज गांव अनंगपुर के राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय में चार मंजिला भवन के निर्माण कार्य की आधारशिला रखी। इसमें 35 कमरे बनाए जाएंगे, जिसमें दिव्यांग बच्चों के लिए 4 मंजिल तक रैम्प की सुविधा भी होगी, यह भवन 18 महीने में बनकर तैयार होगा। इस पर 4 करोड़ 60 लाख रुपये की लागत आएगी। इसके साथ ही उन्होंने 65 लाख की लागत से गांव गोछी स्थित स्कूल में 10 कमरों के दो मंजिला भवन तथा गांव फरीदपुर स्कूल में 3 करोड़ 43 लाख की लागत से बनने वाले 30 कमरों के भवन व सेक्टर-7 स्थित राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय सिही में एक करोड़ की लागत से बनने वाले गर्ल्स हॉस्टल का उद्घाटन किया, इसमें 100 छात्राओं के रहने की सुविधा, वार्डन रूम, डोरमैटरी, डाइनिंग हॉल, लाइब्रेरी शामिल है।

इस अवसर पर उन्होंने पौधारोपण भी किया और आमजन का आह्वान करते हुए कहा कि पर्यावरण के दृष्टिगत अधिक से अधिक पेड़-पौधे लगाकर पर्यावरण संरक्षण में सभी को अपनी भूमिका का निर्वहन करना चाहिए। उन्होंने कहा कि शिक्षा के क्षेत्र में विकास के आयाम स्थापित किए जा रहे हैं। इसमें शिक्षा सुधार के साथ गुणवत्तापरक शिक्षा पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है, ताकि शिक्षा ग्रहण करने वाले बच्चों के उज्ज्वल भविष्य को सुनिश्चित किया जा है।

केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्य मंत्री कृष्ण पाल गुर्जर ने कहा कि गुणवत्तापरक शिक्षा समाज की पहली प्राथमिकता है। केंद्र एवं प्रदेश सरकार के कुशल मार्गदर्शन में करवाए जा रहे विकास कार्यो ने आज प्रत्येक क्षेत्र से जुडे़ लोगों में नई ऊर्जा का संचार किया है, जिसकी चारों ओर सराहना हो रही है। इस अवसर पर बड़खल की विधायक सीमा त्रिखा, तिगांव विधायक राजेश नागर, फरीदाबाद विधायक नरेंद्र गुप्ता ने शिक्षा मंत्री कंवरपाल व केन्द्रीय सामाजिक न्यायिक अधिकारिता राज्य मंत्री कृष्णपाल गुर्जर का उनसे संबंधित विधानसभा मे पहुंचने पर हार्दिक स्वागत व्यक्त करते हुए कहा कि प्रदेश व केन्द्र सरकार की सफल योजनाओं के परिणाम स्वरूप आज हर वर्ग का व्यक्ति खुशहाल जीवन व्यतीत कर रहा है।

इस अवसर पर संबंधित क्षेत्रों के उपमंडल अधिकारी (नागरिक) अपराजिता, पंकज सेतिया, जितेंद्र कुमार व जिला शिक्षा अधिकारी सतेंद्र वर्मा, जिला मौलिक शिक्षा अधिकारी शशि अहलावत, जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान पाली गौतम कुमार, जिला परियोजना समन्वयक डॉ० अब्दुल रहमान, उप जिला शिक्षा अधिकारी मनीष चौधरी, अनीता शर्मा, खण्ड शिक्षा अधिकारी इंदु गुप्ता, जिला सहायक समन्वयक जय सिंह, डॉ० रुद्रदत्त, उपमंडल अभियंता दत्रारते, प्रिंसिपल राजेश कुमार, रंजना निर्मला, रमेश कुमार, निर्मला, युवा भाजपा नेता प्रेमकृष्ण आर्य, अमित आहूजा, एनके गर्ग, वजीर डागर, अनिल जैलदार, सचीन शर्मा, मंडल अध्यक्ष हरीश खटाना, सत्येंद्र पांडे, कर्मवीर बैसला, हरेंद्र भड़ाना व्यक्ति उपस्थित थे।

Leave a Response