फरीदाबादहरियाणा

हरियाणा राज्य बाल संरक्षण आयोग की चेयरपर्सन ज्योति बैंदा ने कहा कि बाल व किशोर बच्चों को शोषण से बचना, उनकी सुरक्षा एवं उनका संरक्षण आयोग की प्राथमिकता है।

177views

हरियाणा राज्य बाल संरक्षण आयोग की चेयरपर्सन ज्योति बैंदा ने कहा कि बाल व किशोर बच्चों को शोषण से बचना, उनकी सुरक्षा एवं उनका संरक्षण आयोग की प्राथमिकता है। इनके साथ किसी भी प्रकार का शोषण व अत्याचार बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। ऐसा करने वाले व्यक्ति के खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।

चेयरपर्सन ज्योति बैंदा ने यह व्यक्तव्य आज सर्किट हाउस के सभागार में संबंधित विभागों के अधिकारियों व समाज सेवी संगठनों के सदस्यों के साथ हुई बैठक में कहे। वे शुक्रवार को फरीदाबाद व पलवल जिले से संबंधित बाल शोषण के तीन केसों की सुनवाई के सिलसिले में पहुंची थी। उन्होंने तीनों मामलों की सुनवाई की और संबंधित अधिकारियों को तुरंत उचित कार्यवाही करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि इन तीनों मामलों में पीड़ितों को हरसंभव मदद दी जाए। बाल व यौन शोषण जैसे अपराध काफी गंभीर श्रेणी में आते हैं, इसलिए हरियाणा स्टेट कमिशन फॉर प्रोटक्शन आफ चाइल्ड राइट्स अपना सामाजिक व प्रशासनिक दायित्व मानते हुए इस घिनौने कार्य में सम्मिलित लोगों को सख्त सजा दिलवाने में अहम भूमिका निभाता है, ताकि इस प्रकार की घटनाओं की पुनरावृत्ति ना होने पाए। उन्होंने जिला फरीदाबाद की डेढ़ साल की बच्ची के साथ हुए यौन शोषण के संबंध में निर्देश दिए कि जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के माध्यम से बच्ची व उसके आर्थिक रूप से कमजोर परिवार को आर्थिक व कानूनी सहायता दिलवाई जाए। इसी प्रकार एक अन्य मामले की सुनवाई करते हुए उन्होनें 17 साल की मानसिक दिव्यांग लड़की के साथ हुई यौन शोषण की घटना पर संबंधित अधिकारियों को सख्त निर्देश दिए कि इस किशोर लड़की को समय रहते उचित स्वस्थ लाभ हेतु तुरंत पीजीआई रोहतक भिजवाया जाए। अगर कोई समस्या आती है तो इस संबंध में उपायुक्त रोहतक से संपर्क किया जाए। इसी प्रकार उन्होंने पलवल से जुड़े एक मामले में 16 साल की लड़की के साथ हुए यौन शोषण के उपरांत जिला फरीदाबाद के एक एनजीओ के यहां संरक्षण मे रह रही इस लड़की पर पलवल के कुछ लोगों द्वारा सोची समझी साजिश के तहत दबाव बनाकर गलत तरीके से कागजों पर हस्ताक्षर करवाने के मामले को गंभीरता से लेते हुए उन्होंने पुलिस विभाग के अधिकारियों को गहन जांच कर दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए।

चेयरपर्सन ज्योति बैंदा ने कहा कि हरियाणा सरकार स्टेट कमिशन फॉर प्रोटक्शन आफ चाइल्ड राइट्स के माध्यम से प्रदेश के सभी बच्चों के अधिकारों को संरक्षित किया जाता है। इस मीटिंग के बाद उन्होंने लड़कियों के उद्यान केयर होम सेक्टर 11 की विजिट कर वहां की समीक्षा की, तथा आवश्यक दिशा निर्देश दिए। इस अवसर पर हरियाणा महिला आयोग की सदस्य रेणु भाटिया, एसीपी धारणा यादव, चेयरपर्सन सीडब्ल्यूसी फरीदाबाद बाल कृष्णा, जिला बाल संरक्षण अधिकारी गरिमा सिंह तोमर, काउंसलर अल्पना, फिजा अजहर, नदीम अहमद, सोनाली रेणुका, डॉ. सुषमा सहित अनेक गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।

Leave a Response