आस्थाफरीदाबाद

कार में लिफट देकर पिस्टल की नोंक पर बलात्कार की कोशिश करने वाले को क्राईम ब्रांच एनआईटी ने किया गिरफतार।

289views

 

कार में लिफट देकर पिस्टल की नोंक पर बलात्कार की कोशिश करने वाले को क्राईम ब्रांच एनआईटी ने किया गिरफतार।

आरोपी को अदालत में पेश करके भेजा गया जेल। आरोपी की जेल के अंदर पीडित लडकियों द्वारा कराई जाएगी शिनाख्त।

आरोपी को गिरफतार करने वाली क्राईम ब्रांच एनआईटी की टीम के निरीक्षक विमल, एसआई अश्वनी, एसआई हरीश, एचसी अमित, दिनंेश, यशपाल, सोमबीर, नरेंद्र सिपाही विकास, अनिल और अमित को पुलिस आयुक्त ने पं्रशसा पत्र व नकद ईनाम देकर किया सम्मानित।
आपको बताते चले कि 11.11.2019 को सुबह 8 बजे मैट्रो मोड फरीदाबाद से गुडगांव के लिए एक लडकी को अपनी कार में लिफट दी और सैनिक कालोनी मोड के पास जाम होने की वजह से सुनसान जगह पर लेकर गया फिर पिस्टल की नोंक पर दुष्कर्म की कोशिश करते हुए लडकी के कपडे उतरवा दिए थे लेकिन लडकी मौका देखकर भागने में सफल रही थी। जिस सबंध में महिला थाना एनआईटी में मुकदमा दर्ज किया गया था।

इसी तरह आरोपी ने उपरोक्त घटना के बाद 30.12.19 को सुबह करीब 8 बजे मस्जिद मोड से एक लडकी को गुडगांव के लिए लिफट दी फिर डिलाईट गार्डन के पास कोहरे की वजह से गाडी को साईड में लगाकर पिस्टल की नोंक पर लडकी के कपडे उतरवाकर दुष्कर्म की कोशिश करने लगा तभी किसी व्यक्ति के आने पर लडकी को उतारकर फरार हो गया था। जिस सबंध में पीडिता की शिकायत पर महिला थाना एनआईटी में मुकदमा दर्ज किया गया था।

श्रीमान पुलिस आयुक्त के के राव0 ने क्राईम ब्रांच एनआईटी प्रभारी विमल सहित 11 पुलिस कर्मियो ंको शामिल कर आरोपी की धरपकड के लिए निर्देश दिए थे। प्रभारी विमल व उसकी टीम ने एसीपी अनिल यादव के मार्गदर्शन में कार्य करते हुए मैट्रो मोड से और घटनास्थल तक के एरिया के सीसीटीवी फुटेज चैक किए गए। सीसीटीवी फुटेज व लडकी के बयान अनुसार फरीदाबाद और गुडगांव से खरीदी हुए करीब 1000 सलेरिया गाडी के रजिस्ट्रेशन न0 चैक किए गए थे।

आखिरकार आरोपी जितेंदर उर्फ जीतू पुत्र मोमराज निवासी गांव लुलवाडी जिला पलवल हाल किरायेदार मकान न0 639 पास गुरुद्वारा सै0 23 फरीदाबाद को संजय कालोनी से पिस्टल सहित गिरफतार करने में सफलता मिली।

आरोपी ने पूछताछ पर बताया कि वह पहले भी फरीदाबाद में अलग अलग थानो में 6 लूट की वारदात को अंजाम दे चुका है। लूट के केस में कुछ महीने पहले ही जेल से बाहर आया था। आरोपी शादीशुदा है पहले किराये की टैक्सी चलाता था बाद में उसने अपनी खुद की पर्सनल नं0 की सिलेरियांे कार खरीद ली थी। जिसमें फरीदाबाद से गुडगांव सवारियां लेकर आता जाता था।

पुलिस प्रवक्ता।

Leave a Response