दिल्ली NCR समाचार

अमेरिकी डॉलर ने फिर पाई ताकत जिससे सोने की कीमतों में गिरावट

109views

अमेरिकी डॉलर ने फिर पाई ताकत जिससे सोने की कीमतों में गिरावट

वैश्विक सरकारों की मुख्य चिंता इस बात पर बनी हुई है कि लॉकडाउन के उपायों को कैसे हटाया जाए और साथ ही अपने नागरिकों की सुरक्षा के लिए स्वास्थ्य सुविधाओं में सुधार कैसे किया जाए। तेजी से आर्थिक सुधार की उम्मीदें बनी हुई है लेकिन वैश्विक नेताओं के दिमाग में एक महामारी की दूसरी लहर की आशंकाएं भी बनी हुई हैं। प्रथमेश माल्या  एवीपी रिसर्च नॉन-एग्री कमोडिटी एंड करेंसी, एंजेल ब्रोकिंग लिमिटेड

सोना

गुरुवार को स्पॉट गोल्ड की कीमतें 0.52 प्रतिशत घटकर 1736.2 डॉलर प्रति औंस पर बंद हुईं क्योंकि अमेरिकी डॉलर का मूल्य तेजी से बढ़ा, जिससे अन्य मुद्रा धारकों के लिए पीली धातु की कीमत और अधिक महंगी हो गई।

हालांकि, महामारी की एक और खतरनाक दूसरी लहर पर चिंता बनी हुई है, जो सर्दियों में सामने आ सकती है। इससे सोने की कीमतों में किसी भी तरह की गिरावट को सीमित ही रही।

अमेरिकी फेडरल रिजर्व ने वैश्विक अर्थव्यवस्था को कोरोनावायरस के प्रभाव से बचाने के लिए कुछ व्यावहारिक योजनाओं की घोषणा की। यह कदम इस तथ्य को देखते हुए लिया गया कि कोरोनोवायरस के बाद आर्थिक रिकवरी की अवधि पूर्वानुमानों की तुलना में अधिक हो सकती है।

चांदी

गुरुवार को स्पॉट सिल्वर की कीमतें लगभग 3 प्रतिशत की गिरावट के साथ 17.7 डॉलर प्रति औंस पर बंद हुई। एमसीएक्स पर कीमतें 1.15 प्रतिशत बढ़कर 48,639 रुपये प्रति किलोग्राम पर बंद हुईं।

क्रूड ऑयल

गुरुवार को, डब्ल्यूटीआई क्रूड की कीमतें 8.2 प्रतिशत घटकर 36.3 डॉलर प्रति बैरल पर आ गईं। यूएन क्रूड इन्वेंट्री में बढ़त और दुनियाभर में मांग में कमी की वजह से यह हुआ।

पिछले सप्ताह यू.एस. क्रूड के भंडार में 5.7 मिलियन बैरल की वृद्धि हुई, क्योंकि यू.एस. ने सऊदी अरब से इन्वेंट्री के आयात बढ़ाया है।

दुनिया भर में घटते मामलों के बाद, चीन और कुछ अन्य जगहों पर कोरोनावायरस के मामलों में नए सिरे से वृद्धि दर्ज की गई। इसने गिरती मांग और कीमतों को बढ़ा दिया।

बेस मेटल्स

गुरुवार को लंदन मेटल एक्सचेंज (एलएमई) पर बेस मेटल की कीमतें नकारात्मक रूप से बंद हुईं, क्योंकि अमेरिकी फेडरल रिजर्व द्वारा प्रकाशित कमजोर आर्थिक आंकड़ों की एक स्ट्रिंग थी। इसने बाजार की भावनाओं को तौला और कीमतों को नीचे धकेला।

दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बढ़ते मामलों से जूझ रही है जो 2 मिलियन से अधिक हो गए हैं। हिंसक दंगे प्रमुख आर्थिक क्षेत्रों में भी फैल गए, जिसने घटते व्यापार और कीमतों पर नकारात्मक असर डाला।

हालांकि, चीन की ओर आए पॉजीटिव ट्रेड डेटा और अमेरिका की ओर से बुनियादी ढांचे में बढ़ते खर्च के लिए विशाल और असाधारण इंफ्यूजन और प्रोत्साहन उपायों की उम्मीद की जा रही है। इससे कीमतों में किसी और गिरावट को सीमित किया है।

तांबा

गुरुवार को, एलएमई कॉपर की कीमतों में 2.4 प्रतिशत की गिरावट आई और वह 5764.5 डॉलर प्रति टन पर बंद हुई। यह महामारी संबंधी लॉकडाउन और खनन गतिविधियों और उत्पादन इकाइयों पर रोक की वजह से दबाव लाल धातु की कीमतों पर बढ़ गया है।

यह देखा जाना है कि दुनिया के कई हिस्सों में मंदी <span lang=”EN-US” style=”font-family:”

Leave a Response